मुख्य सचिव ने जिला शिमला की चुनाव संबंधी तैयारियों का लिया जायजा


डीसी-एसपी ने मुख्य सचिव को विस्तारपूर्वक जिला की चुनावी तैयारियों से करवाया अवगत
शिमला
मुख्य सचिव हिमाचल प्रदेश प्रबोध सक्सेना ने आज यहां उपायुक्त कार्यालय के रोजना हाॅल में लोकसभा चुनाव 2024 को लेकर आयोजित समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए जिला शिमला की चुनाव संबंधी तैयारियों का जायज़ा लिया।
मुख्य सचिव ने कहा कि चुनाव करवाना बेहद जटिल कार्य है इसलिए जब तक आखिरी मत डल नहीं जाता और जब तक आखिरी मत की गिनती नहीं हो जाती, सभी अधिकारियों को बेहद सतर्क होकर कार्य करने की आवशयकता है। उन्होंने कहा कि वह स्वयं भी दो जिला के जिला निर्वाचन अधिकारी रहे हैं और चुनाव प्रक्रिया से बखूबी वाकिफ हैं। उन्होंने सभी अधिकारियों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि सभी अधिकारी काबिल हैं और निष्पक्ष व स्वतंत्र चुनाव सम्पन्न करवाने में सक्षम हैं।
जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त शिमला अनुपम कश्यप ने मुख्य सचिव का स्वागत किया और उन्हें बताया कि जिला में कुल 590940 मतदाता है, जिसमें 301279 पुरुष, 289659 महिला तथा 2 ट्रांसजेंडर शामिल है। इसके अतिरिक्त, जिला में कुल 2519 सर्विस वोटर है, जिनमें 2414 पुरुष और 105 महिलाएं शामिल है। सर्वाधिक 1348 मतदाता कसुम्पटी विधानसभा क्षेत्र के शगीन मतदान केन्द्र तथा न्यूनतम 34 मतदाता शिमला शहरी विधानसभा क्षेत्र के समरहिल मतदान केन्द्र में है।
अनुपम कश्यप ने बताया कि जिला शिमला में 15054 नए युवा मतदाता पंजीकृत है, जिसमें 60-चौपाल में 2335, 61-ठियोग में 2419, 62-कसुम्पटी में 1500, 63-शिमला में 875, 64-शिमला ग्रामीण में 2000, 65-जुब्बल कोटखाई में 1882, 66-रामपुर में 2116 तथा  67-रोहडू में 1927 युवा मतदाता शामिल है। इसी प्रकार जिला में 85 वर्ष से अधिक आयु के 5494 मतदाता हैं, जिसमें 2466 पुरुष और 3028 महिलाएं शामिल है। जिला में कुल 7379 दिव्यांग मतदाता है, जिसमें 4716 पुरुष और 2663 महिला मतदाता शामिल है।
लोकसभा चुनाव के दृष्टिगत जिला में कुल 1058 मतदान केन्द्र बनाए गए हैं और 16 मतदान केन्द्र महिलाओं, 8 मतदान केन्द्र युवाओं व 8 मतदान केन्द्र दिव्यांगजनों द्वारा संचालित किए जाएंगे। इसी प्रकार, जिला में कुल 28 आदर्श मतदान केंद्र भी स्थापित किए जाएंगे।
मिशन 414 के तहत पिछले चुनाव में कम प्रतिशतता दर्ज करने वाले मतदान केन्द्रों में जिला के 108 मतदान केन्द्र हैं, जिनमें 60-चौपाल में 18, 61-ठियोग में 18, 62-कसुम्पटी में 24, 63-शिमला में 17, 64-शिमला ग्रामीण में 20, 65-जुब्बल कोटखाई में 2, 66-रामपुर में 8 तथा  67-रोहडू में 1 मतदान केंद्र शामिल है। जिला में कुल 16 क्रिटिकल मतदान केन्द्र है तथा कुल 609 मतदान केंद्रों पर वेबकास्टिंग करवाई जाएगी।
बैठक में बताया गया कि लोकसभा चुनाव के लिए 1326 बैलेट यूनिट, 1326 कंट्रोल यूनिट तथा 1571 वीवीपैट की आवश्यकता है, जिसकी प्रथम रेंडमाइजेशन 2 मई को करवाई जा चुकी है और दूसरी रेंडमाइजेशन 19 मई, 2024 को करवाई जाएगी।
बैठक में बताया गया कि चुनाव संबंधी शिकायतांे के लिए शिकायत निगरानी प्रणाली के तहत 24×7 एकीकृत नियंत्रण कक्ष 16 मार्च, 2024 से क्रियाशील है, जिसमें दैनिक आधार पर शिकायतें ऑनलाइन और ऑफलाइन माध्यम से प्राप्त की जा रही हैं और उनका त्वरित निपटारा किया जाता है। आदर्श आचार संहिता के उल्लघंन से संबंधित अभी तक 114 शिकायतें सी-विज़िल, 1950 टाॅल फ्री नम्बर और अन्य माध्यमों से प्राप्त हुई है, जिनका निपटारा कर दिया गया है।
बैठक में बताया गया कि मतदान कर्मियों की प्रथम रेंडमाइजेशन 18 अप्रैल को की गई थी और दूसरी रेंडमाइजेशन 16 मई को की गई। इसी प्रकार तीसरी रेंडमाइजेशन 29-30 मई, 2024 को आयोजित होगी। मतदान कर्मियों के प्रशिक्षण का पहला सत्र 25 से 27 अप्रैल तक आयोजित किया गया था तथा दूसरा सत्र 22 व 23 मई को आयोजित होगा। इसी प्रकार प्रशिक्षण के तीसरे सत्र का आयोजन 29 मई को किया जाएगा।
बैठक में बताया गया कि आईटीआई चैड़ा मैदान में स्टेट क्लीयरेंस सेंटर स्थापित किया गया है, जहां पोस्टल बैलेट का आदान-प्रदान होगा। सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों के पोस्टल बैलेट का आदान-प्रदान 22 मई, 2024 को होगा तथा 28 मई को विधानसभा क्षेत्रवार शेष पोस्टल बैलेट का आदान-प्रदान होगा। 2 जून, 2024 को रिटर्निंग अधिकारी के स्तर पर पोस्टल बैलेट का आदान-प्रदान होगा।
पुलिस अधीक्षक शिमला संजीव कुमार गांधी ने जानकारी देते हुए बताया कि लोकसभा चुनाव 2024 के दृष्टिगत पुलिस द्वारा स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सम्पन्न करवाने के लिए पूरी तैयारी कर ली गई है। उन्होंने बताया कि जिला के 16 क्रिटिकल मतदान केन्द्रों पर केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल के जवान तैनात होंगे। उन्होंने बताया कि जिला में 24 उड़न दस्ते और 24 स्टेटिक सर्विलेंस टीम तैनात की गई है। जिला में 4 अंतर्राज्यीय बैरियर है, जिनमें रोहाना/मिनस, फेडिज़ पुल, कुड्डू तथा मनेवटी शामिल है, जिनकी आईपी बेस्ड सीसीटीवी कैमरा से निगरानी की जा रही है। इसके अतिरिक्त अंर्तजिला बैरियर शोघी, 16मील, ततापानी, पराला, सैंज (रामपुर) और झाकड़ी में स्थित है, जिन पर पुलिस का कड़ा पहरा है। उन्होंने बताया कि काउंटिंग के दिन पुलिस ड्रोन के माध्यम से भी काउंटिंग सेंटर की निगरानी रखेगी।
उन्होंने बताया कि जिला में कुल 14680 लाइसेंस शुदा हथियार है और अभी तक 14345 जमा हो चुके हैं। आदर्श आचार संहिता के लागू होने से लेकर अभी तक एनडीपीएस के 50 मामले दर्ज किये गए हैं और भारी मात्रा में नशीले पदार्थ कब्जे में लिए गए हैं तथा 93 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।
उपायुक्त राज्य कराधान एवं आबकारी विशाल गोरला ने जानकारी देते हुए बताया कि अभी तक कुल 1549 रेड की गई हैं जिसमें मार्च माह में 341, अप्रैल में 801 तथा मई में 407 रेड की गई और 51 लाख से अधिक रुपए की शराब पकड़ी गई व 102 मामले दर्ज किये गए। उन्होंने बताया कि शराब की होलसेल दुकानों पर सीसीटीवी लगाए गए हैं और सीसीटीवी की दिन-रात निगरानी के लिए अलग से स्टाफ लगाया गया है। इसके अलावा, एक हेल्पलाइन नंबर 0177-2621475 भी क्रियाशील है जिस पर शराब की अनाधिकृत बिक्री और आपूर्ति की शिकायत की जा सकती है।
अतिरिक्त उपायुक्त शिमला अभिषेक वर्मा ने पीपीटी के माध्यम से मुख्य सचिव को जिला शिमला की चुनाव संबंधी तैयारियों की विस्तृत जानकारी दी।
इस दौरान अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी (कानून एवं व्यवस्था) अजीत भारद्वाज, अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी (प्रोटोकाॅल) ज्योति राणा, आयुक्त नगर निगम शिमला भूपेन्द्र अत्री सहित विभिन्न कार्यों के लिए नियुक्त नोडल अधिकारी उपस्थित रहे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.