अखिल भारतीय विधिक जागरूकता एवं आउटरीच अभियान का विधिवत शुभारम्भ

सोलन। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयन्ती के अवसर पर अखिल भारतीय विधिक जागरूकता एवं आउटरीच अभियान का आज विधिवत शुभारम्भ हुआ। सोलन से जिला स्तरीय अभियान का शुभारम्भ जिला एवं सत्र न्यायाधीश वीरेन्द्र शर्मा ने जिला न्यायिक परिसर से किया।
जिला एवं सत्र न्यायाधीश वीरेन्द्र शर्मा, मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी परमिन्दर सिंह, जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के सचिव एवं अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी कपिल शर्मा, न्यायिक दण्डाधिकारी मेघा शर्मा सहित अन्य ने जिला सुधार गृह में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धासुमन अर्पित किए।
वीरेन्द्र शर्मा ने इस अवसर पर जिला कारागार में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि अखिल भारतीय विधिक जागरूकता एवं आउटरीच अभियान का मुख्य उददेश्य जन-जन विशेष रूप से ग्रामीण, जनजातीय एवं दुर्गम क्षेत्रों के निवासियों को जानकारी के माध्यम से विधिक सेवा संस्थानों की कार्यप्रणाली से अवगत करवाना तथा निःशुल्क विधिक सेवाएं उपलब्ध करवाना है। सभी को भारत के संविधान द्वारा प्रदत्त उनके विधिक अधिकारों की जानकारी देना तथा अन्य कल्याणात्मक प्रावधानों के विषय में जागरूक बनाना भी अभियान का उद्देश्य है।
जिला एवं सत्र न्यायाधीश ने कहा कि राष्ट्रीय विधिक सेवाएं प्राधिकरण एवं राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण के निर्देशानुसार सोलन जिला में अभियान के अन्तर्गत विभिन्न जागरूकता कार्यक्रमों के माध्यम से गावं-गांव तक पंहुचकर लोगों को विधिक सेवा एवं अधिकारों के विषय में जागरूक बनाया जाएगा।
उन्होंने कहा कि जिला सेवा विधिक सेवाएं प्राधिकरण द्वारा अधिवक्ताओं, पैरा लीगल वालंटियरों, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा कार्यकर्ताओं, महिला मण्डलों, युवक मण्डलों, जिला प्रशासन, पुलिस, स्वंय सेवी संस्थाओं, मीडिया तथा अन्य के सहयोग से विधिक जागरूकता एवं अन्य आऊटरीच गतिविधियां आयोजित की जाएंगी।
वीरेन्द्र शर्मा ने कहा कि अभियान के अन्तर्गत लम्बित मामलों को शीघ्र सुलझाने का प्रयास किया जाएगा। कैदियों के लम्बित मामलों को भी शीघ्र सुलझाने के प्रयास किए जाएंगे।
जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के सचिव एवं अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी कपिल शर्मा ने इस अवसर पर अखिल भारतीय विधिक जागरूकता एवं आउटरीच अभियान की विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि कार्यक्रम का विधिवत शुभारम्भ आज नई दिल्ली में किया गया। उन्होंने कहा कि 45 दिवसीय अभियान के तहत भिन्न-भिन्न गतिविधियों के माध्यम से लोगों को संविधान द्वारा प्रदत्त अधिकारों की जानकारी दी जाएगी और निःशुल्क विधिक सेवाओं के विषय में जागरूक बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि अभियान को सफल बनाने के लिए न्यायिक अधिकारियों, अधिवक्ताओं, पैरा लीगल वालन्टियरों, स्वंय सेवी संस्थाओं के प्रतिनिधियों एवं अन्य की टीमें गठित की गई हैं।
उन्होंने कहा कि अभियान के तहत 10 अक्तूबर, 2021 को मानसिक स्वास्थ्य दिवस, 11 अक्तूबर को अन्तरराष्ट्रीय कन्या दिवस, 15 अक्तूबर को विश्व छात्र दिवस, 24 अक्तूबर को संयुक्त राष्ट्र दिवस, 09 नवम्बर को विधिक सेवाएं दिवस तथा 14 नवम्बर, 2021 को बाल दिवस पर विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।
इस अवसर पर जिला कारागार में अखिल भारतीय विधिक जागरूकता एवं आउटरीच अभियान के नई दिल्ली से शुभारम्भ का लाईव प्रसारण भी किया गया।
तदोपरान्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश वीरेन्द्र शर्मा, मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी परमिन्दर सिंह, जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण के सचिव एवं अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी कपिल शर्मा, न्यायिक दण्डाधिकारी मेघा शर्मा सहित अन्य ने कथेड़ स्थित बाल सुधार गृह का निरीक्षण किया।
इससे पूर्व राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयन्ती के अवसर पर प्रातः समय में जिला न्यायालय परिसर से विश्राम गृह सोलन तक प्रभात फेरी भी निकाली गई।
जिला एवं सत्र न्यायाधीश वीरेन्द्र शर्मा ने जिला स्तरीय अभियान का शुभारम्भ करते हुए जिला न्यायालय परिसर से जागरूकता रैली को झण्डी दिखाकर रवाना किया।
औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान सोलन के प्रशिक्षु, प्रशिक्षक करमजीत सिंह, राती चौहान, राकेश कुमार, राजकीय छात्रा वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला की छात्राओं सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति इस अवसर पर उपस्थित थे।
सोलन जिला में इस अवसर पर उपमण्डल स्तर भी कार्यक्रम आयोजित किए गए।
.0.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.