चुनावी सभाओं, रैलियों के लिए पूर्व अनुमति लेना जरूरी प्रचार सामग्री में प्लास्टिक का प्रयोग करने पर रोक सी विजिल ऐप पर दे सकते हैं आचार संहिता के उल्लंघन की जानकारी

धर्मशाला। स्वतंत्र तथा निष्पक्ष निर्वाचन प्रक्रिया को सुनिश्चित करने के लिए निर्वाचन आयोग ने मोबाइल ऐप सी विजिल लांच किया है इस ऐप के जरिये आम जन आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन की रिपोर्ट कर सकेगा। सी विजिल ऐप से प्राप्त शिकायतों का सौ मिनट में निवारण भी सुनिश्चित किया जाएगा। इसके साथ ही चुनाव आचार संहिता की उल्लंघना पर जिला कंट्रोल रूम में भी शिकायत दी जा सकती है।
यह जानकारी जिला निर्वाचन अधिकारी, उपायुक्त डा निपुण जिंदल ने सोमवार को उपायुक्त कार्यालय परिसर के सभागार में सभी विभागों के विभागाध्यक्षों के साथ आदर्श आचार संहिता की अनुपालना को लेकर आयोजित आवश्यक बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी।
उन्होंने कहा कि निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार नए विकास कार्यों की घोषणा तथा शिलान्यास पर पूर्णतय रोक रहेगी जबकि निर्वाचन की घोषणा होने से पहले कार्य चलते रहेेंगे। राहत और पुनर्वास के कार्यों को भी नियमों के तहत जारी रखा जा सकता है। राजनीतिक सभाओं के लिए स्थान तथा समय सहित पूर्व अनुमति लेना जरूरी होगा इसके साथ ही सार्वजनिक स्थल तथा मैदान सभाओं के लिए सभी दलों या प्रत्याशियों को समान रूप से उपलब्ध करवाए जाने का प्रावधान है। उन्होंने कहा कि मंदिर, चर्च, मस्जिद इत्यादि धार्मिक स्थलों को चुनाव प्रचार के लिए उपयोग नहीं किया जा सकता है। इसके साथ ही प्रचार सामग्री इको फ्रेंडली होनी चाहिए, प्लास्टिक के प्रयोग पर रोक रहेगी।
उन्होंने कहा कि उन्होंने कहा कि विभागीय अधिकारियों तथा कर्मचारियों को भी आदर्श आचार संहिता का पूर्णतयः पालना सुनिश्चित करना चाहिए इसके साथ ही स्थानंतरण या ज्वाइनिंग तथा अन्य मामलों को अपने अपने विभागाध्यक्षों के माध्यम से चुनाव आयोग के समक्ष प्रस्तुत करें।
उन्होंने कहा कि आबकारी विभाग को जिला भर में शराब इत्यादि की बिक्री तथा अवैध तौर पर शराब जब्त करने की प्रतिदिन रिपोर्ट देने के लिए कहा गया है इसके साथ ही नाकों पर सुचारू चेकिंग भी करने के लिए कहा गया है।
इस अवसर पर तहसीलदार निर्वाचन विभाग उपेंद्र शुक्ला सहित विभिन्न अधिकारी तथा कर्मचारी उपस्थित थे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.