चेतन बरागटा भाजपा से 6 साल के लिए निष्कासित

शिमला। शिमला जिला के जुब्बल-कोटखाई विधानसभा क्षेत्र से उपचुनाव के लिए बतौर निर्दलीय उतरे पूर्व मंत्री नरेंद्र बरागटा के पुत्र चेतन बरागटा को भाजपा ने छह साल के लिए निष्कासित कर दिया। नामांकन वापसी के अंतिम दिन बुधवार को उन्होंने मोबाइल स्विच ऑफ रखा। शाम को बयान जारी कर बरागटा ने कहा कि जुब्बल-कोटखाई की जनता के दबाव के चलते उन्होंने नामांकन वापस नहीं लिया। इसके बाद प्रदेशाध्यक्ष एवं सांसद सुरेश कश्यप ने भाजपा आईटी विभाग के प्रदेश संयोजक चेतन बरागटा को तुरंत प्रभाव से छह वर्ष के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है।
भाजपा की अधिकृत प्रत्याशी नीलक सरैईक के विरुद्ध निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में प्रचार करने पर उनके खिलाफ यह कार्रवाई हुई है। यह जानकारी भाजपा के कार्यालय सचिव प्यार सिंह ने दी है।
 जैसे ही नामांकन वापसी का समय खत्म हुआ, वह समर्थकों के साथ अपने घर लौटे।

सेब  चुनाव चिह्न मिला चेतन बरागटा को

चेतन बरागटा को चुनाव चिह्न सेब मिला है। मंत्री सुरेश भारद्वाज की टिप्पणी पर बरागटा ने कहा कि मान-सम्मान जनता देती है। जनता के आशीर्वाद से ही वह चुनाव लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि उन्हें सेब चुनाव चिह्न मिला है। यही चिह्न उनका बेड़ा पार लगाएगा। उनके पिता नरेंद्र बरागटा भी सारी उम्र सेब उत्पादकों के हित में ही लड़ाई लड़ते रहे। बरागटा ने कहा कि वह छह बजे महासू से निकले, उसके  बाद दरकोटी पंचायत गए। जब दरकोटी पंचायत में थे तो वहां सिग्नल नहीं होता है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.