नागरिकों की समस्याओं का हल प्रदेश सरकार की प्राथमिकता: सुखराम चैधरी

ऊर्जा मंत्री ने सीमावर्ती लोगों का सुना दुःख दर्द 
ऊना, 23 दिसंबरः बहुद्देशीय परियोजनाएं व ऊर्जा मंत्री सुखराम चैधरी ने आज  पंजाब की सीमा के साथ लगते गांव सनोली, मलूकपूर, बीनेवाल व मजारा का दौरा किया। इस दौरान ऊर्जा मंत्री ने सीमावर्ती लोगों को बिजली, पानी इत्यादि के कनैक्शन में आ रही समस्याओं को सुना तथा मामले को मुख्यमंत्री के साथ विचार विमर्श करके शीघ्र ही स्थाई हल निकाल लिया जाएगा।
  सुखराम चैधरी ने कहा कि वर्तमान सरकार ने जनहित में कई जन-कल्याणकारी योजनाएं संचालित की हैं और इनका लाभ अंतिम छोर पर बैठे व्यक्ति तक पहुंचाना सरकार की प्राथमिकता रही है।
सुखराम चैधरी ने कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा ऊना विधानसभा क्षेत्र में अभूतपूर्व विकास कार्य किए गए है। कोई भी गांव सरकार की योजनाओं से वंचित ना रहे इसके लिए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने बाॅर्डर ऐरिया से लगते गांवावासियों की समस्याओं को जानकर उन्हें निपटाने का बीड़ा उठाया है ताकि बाॅर्डर ऐरिया से सटे लोग भी सरकार की योजनाओं का लाभ उठा सके।
ऊर्जा मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा किसानों को धान फसल बेचने के लिए राज्य से बाहर न जाना पड़ा, इसके लिए सरकार ने किसानों की धान फसल को घर-द्वार पर ही खरीदने के लिए प्रदेश में कुल 11 धान मंडिया खोली है। जिसमें किसानों ने अपना धान काफी अच्छे दाम व सरलता से विक्रय किया है। इसके अतिरिक्त उन्होंने कहा कि ऊना विधानसभा क्षेत्र में लो वोल्टेज की समस्या के निदान के लिए 10 करोड़ रूपए खर्च किए जा रहे है जिसके तहत 100 नए ट्रांसफार्मर लगाए गए हैं।
क्या है सीमावर्ती लोगों की समस्या
  इस मौके पर सनोली के सतपाल, रामकुमार, हरपाल सिंह, गुरदयाल सिंह, श्याम लाल व  अवतार सिंह ने ऊर्जा मंत्री को अपनी समस्याओं बारे अवगत करवाया। उन्होंने कहा कि  बिजली का कनेक्शन न पंजाब न हिमाचल से मिल रहा है। 40 साल पहले एक मीटर लगवाया गया था। अब परिवार बढ़ने के कारण बिजली की जरूरत बढ़ गई है। उन्होंने बिजली के नए मीटर कनेक्शन लगवाने बारे ऊर्जा मंत्री से अपील की।
इस अवसर पर छठे राज्य वित्तायोग के अध्यक्ष सतपाल सिंह सत्ती ने कहा कि गत चार वर्षों में ऊना विधानसभा क्षेत्र में 1500 करोड़ रूपये से अनेकों विकासात्मक कार्य किए जा रहे है। उन्होंने कहा कि ऊना व मैहतपुर गैस पाईप लाईन का कार्य भी किया जा रहा है जिसमें हिमाचल के सीमावर्ती क्षेत्र भी शामिल है। उन्होंने कहा कि 450 करोड़ रूपये की राशि व्यय करके ऊना में पीजीआई सेटेलाईट सेंटर बनाया जा रहा है। 35 करोड़ रूपये की लागत से न्यू आईएसबीटी ऊना का निर्माण किया गया है। जबकि 28.60 करोड़ रूपये की लागत से ऊना में लघु सचिवालय का निर्माण कार्य किया जा रहा है।
इस मौके पर मंडलाध्यक्ष हरपाल सिंह गिल, जिला परिषद अध्यक्षा नीलम कुमारी, उपायुक्त ऊना राघव शर्मा, एसडीएम डाॅ निधि पटेल, खादी बोर्ड के निदेशक सागर दत्त, प्रधान सनोली जसबीर, प्रधान मजारा कुलदीप सिंह संधू, उपप्रधान सतवीर सिंह, प्रधान मलूकपुर कमलजीत कौर, उप प्रधान तरसेम सिंह, प्रधान बीनेवाल सुखराज कौर, उप प्रधान जीत सिंह, सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे।
-0-

Get real time updates directly on you device, subscribe now.