डीसी कुल्लू ने 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों के लिए वैक्सीनेशन अभियान का ढालपुर स्थित रावमापा से किया शुभारंभ

कहा, जिला  के विभिन्न स्कूलों में 23 हजार बच्चों को लगाई जाएगी वैक्सीनेशन
वैक्सीनेशन को लेकर बच्चों में दिखा भारी उत्साह  

कुल्लू, 03 जनवरी। जिला कुल्लू के सभी सरकारी तथा निजी स्कूलों में आज से 15 से 18 वर्ष आयु वर्ग के बच्चों के लिए कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर वैसीनेशन शुरू कर दी गई है। इसी कड़ी में आज उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला (ब्वाॅयज) ढालपुर से इस अभियान का शुभारंभ किया। उन्होंने राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला ढालपुर में स्थापित किए गए वैक्सीनशन केन्द्र में सबसे पहले मोहल स्थित वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कैंब्रिज की मैडीकल संकाय की 17 वर्षीय छात्रा नम्या ठाकुर को कोरोना वैक्सीन को-वैक्सीन की प्रथम डोज देकर जिला में इस अभियान का शुभारंभ किया। दूसरी डोज इसी स्कूल की वाणिज्य संकाय की छात्रा अक्षिता मलिक तथा तीसरी डोज मोहल स्थित वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला न्यूक्लयर के मैडीकल संकाय के 17 वर्षीय छात्र वंशिका नेगी शामिल रहेे।
    उन्होंने बताया कि पूरे देश के साथ हिमाचल प्रदेश में भी 15 से 18 वर्ष के बच्चों को वैक्सीनेशन की डोज को-वैक्सीन के लिए जिला कुल्लू में भी आज से अभियान चलाया गया है। इस अभियान के तहत जिला में विभिन्न स्कूलों में 91 वैक्सीनेशन केन्द्र स्थापित किए गए हैं। सभी सरकारी तथा प्राईवेट स्कूलों के लगभग 23 हजार बच्चों को इस अभियान के तहत वैक्सीनेट किया जाएगा तथा अगले 2-3 दिनों के भीतर जिला में वैक्सीनेशन के इस लक्ष्य को पूरा कर लिया जाएगा।वैक्सीनेशन को लेकर बच्चों में भारी उत्साह देखने को मिल रहा है। बच्चों को वैक्सीनेशन के बाद स्कूल में ही अलग कमरे में आधा घंटा तक आराम करवाया जजा रहा है तथा उसके बाद उन्हें घर भेजा जा रहा है। सुरक्षा की दृष्टि से बच्चों को वैक्सीनेशन के लिए उनके अभिभावक भी साथ आ रहे हैं।
     उन्होंने बताया कि जिला में स्थापित सभी वैक्सीनेशन केन्द्रों में उपरोक्त आयु वर्ग के सभी बच्चों को वैक्सीनेशन स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से लगवाई जा रही है। कुल्लू स्थित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला में आस-पास के तीन और स्कूलों भारत-भारती सीनियर सैकेंडरी स्कूल, ओएलएस उच्चतर स्कूल तथा साईं सीनियर सैकेंडरी स्कूलों के बच्चों को भी वैक्सीनेशन दी जा रही है तथा इन सभी बच्चों को दो दिन के भीतर वैक्सीनेशन की डोज प्रदान की जाएगी। इसी तरह जिला के अन्य स्कूलों में भी वैक्सीनेशन शुरू कर दिया गया है तथा आगीमी दो-तीन दिनों के भीतर वैक्सीनेशन के लक्ष्य को पूरा कर लिया जाएगा।
     उपायुक्त ने बच्चों का आह्वान किया कि वे कोराना संक्रमण से बचाव को वैक्सीनेशन आवश्यक रूप से करवाएं तथा अपने अन्य साथियों को भी प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन के उपरांत कोविड उपयुक्त व्यवहार को अपनाएं रखें। मुंह पर अच्छे तरीके से माॅस्क लगाना, सामाजिक दूरी बनाए रखना तथा व्यक्तिगत सफाई के साथ अपने आस-पास के वातावरण को भी स्वच्छ रखकर हम कोरोना संक्रमण को अधिक फैलने से रोकने में सहयोग कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि कोराना का एक नया वैरियंट ओमिक्राॅन आ गया है, इसलिए कोराना  तथा इइसके नए वैरियंट आूमिक्राॅन के संक्रमण से बचाव को लेकर वैक्सीनेशन तथा कोराना उपयुक्त व्यवहार ही एकमात्र बचाव का उपाय है जिसे अपनाकर समाज में कोरोना संक्रमण को अधिक फैलने से रोका जा सकता है।
    इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. सुशील चंद्र शर्मा, जिला इम्युनाईजेशन अधिकारी डा. अतुल गुप्ता, स्थानीय स्कूल के प्रधानाचार्य भीम सिंह कटोच, स्वास्थ्य विभाग के वैक्सीनेशन से जुड़े कर्मचारी तथा काफी संख्या में स्कूली बच्च तथा उनके अभिभावकगण उपस्थित थे।
                 -0-     

Get real time updates directly on you device, subscribe now.